नरभक्षी गुलदार के खिलाफ एक जुट हुये ग्रामीणों ने वन विभाग के लापरवाह रैवये पर दर्ज कराया आक्रोश

स्थानीय संपादक / नारायणबगड,चमोली।
सोमवार सायं ग्राम पंचायत गैरबारम के हरिढोंन तोक में नरभक्षी गुलदार द्वारा एक ग्यारह वर्षीय बच्ची को मार डाला गया था। जिसके बाद गुस्साए ग्रामीणों ने शव को कब्जे में रखकर वन विभाग के खिलाफ नाराजगी जाहिर कर शव का पंचनामा भरने व पोस्टमार्टम कराने से मना कर दिया। घटना की हृदयविदारक खबर से पूरे विकास खंड मे भारी शोक की लहर व्याप्त हो गई हैं।
विगत ढेड महीने पहले 28 मईक्षको त्यूला के मगेटी तोक में नेपाली मूल के मजदूर का चार वर्षीय बच्चे को गुलदार ने मार डाला था । तब उसका सिर्फ सिर ही प्राप्त हो सका था। उसके बाद मगेटी मे ही 14 जून को मानस़िह रमोला की 27 वर्षीय लडकी को भी नरभक्षी गुलदार ने घर के आंगन से उठाकर नीचे खेतों में फेंक दिया था। गनिमत रही कि लडकी के परिजनों के आसपास ही मौजूद रहने से उनके हो हल्ले से गुलदार भाग खडा हुआ था। इस बीच नरभक्षी गुलदार क्षेत्र में गाय,बैल,कुत्तों पर भी हमला करता रहा है। इससे घबराये ग्राम पंचायत त्यूला,गैराबारम,धाराबारम,जबरकोट,कुलसारी,मेटा मल्ला व तल्ला,देवपूरी,मलतूरा,हरमनी तल्ली व मल्ली,ताजपुर,सालपुर समेत दर्जनों गांवों के ग्रामीणों,जनप्रतिनिधियों ने वन विभाग व प्रशासन से नरभक्षी गुलदार को मारने की मांग की थी। जिस पर सिर्फ आश्वासन देकर क्षेत्र में एक पिंजरा लगाकर दो वन कर्मियों की ड्यूटी लगाई गई। पंरतु आदमखोर गुलदार पिंजरे के पास भी नहीं फटका।

विगत सोमवार सायं गैरबारम ग्राम प्रधान मधुदेवी की ग्यारह वर्षीय लडकी कुमारी दृष्टि अपनी मां के साथ गोशाला में पानी लेकर जा रही थी तभी वहां पहले से घात लगाकर बैठा गुलदार ने लडकी पर हमला कर दिया। प्राप्त जानकारी के मुताबिक लडकी की मां जो प्रधान भी हैं उन्होंने अपने लडकी के पैर पकडकर गुलदार से बचाने का भरसक प्रयास किया परंतु इतने में गुलदार बच्ची का गला रेत चुका था। वन विभाग की लापरवाही से गुस्साए ग्रामीणों व परिजनों ने शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम कराने से साफ मना कर दिया था।लोगों का कहना था कि जबतक वन विभाग नरभक्षी गुलदार को मारने का आदेश जारी कर शूटरों को क्षेत्र में नहीं भेजता है तब तक वे शव को घटनास्थल से उठाने नहीं देंगे। इस पर मंगलवार सुबह जिलापंचायत उपाध्यक्ष लक्ष्मण सिंह रावत,देवराज रावत,प्रधान संघ के जिला महामंत्री सुरेन्द्र धनेत्रा, फतेसिंह नेगी,क्षेपं हीरासिंह पंवार व प्रधान संघ की मध्यस्थता पर वन विभाग व प्रशासन से वार्ता करने व परिजनों को समझाने के बाद ही मृत लडकी के परिजन बालिका का पंचनामा भराने को राजी हुए।

मौके पर पहुंचे उपजिलाधिकारी केएस नेगी,रेंजर जुगलकिशोर चौहान से आज ही शूटरों को क्षेत्र में भेज दिए जाने पर ही पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम कर दिया गया। इसी बीच दोपहर को वन्य जीव जंतु प्रतिपालक की ओर से नरभक्षी गुलदार को मारने के लिए शूटरों की अनुमति भी जारी कर दी गई है। इसके बाद मृत बालिका के परिजन,क्षेत्रवासी,प्रधान संघ व जनप्रतिनिधियों ने बालिका के शव का दाह संस्कार करने का निर्णय लिया।जिला पंचायत उपाध्यक्ष लक्ष्मण सिंह रावत ने परिजनो को भरोसा दिलाया कि वे आपके लिए न्याय दिलाने के लिए हमेशा साथ रहेंगे। राजस्वकर्मी,मय फोर्स थानाध्यक्ष ध्वजवीर सिंह पंवार,इस पूरे घटनाक्रम में सुबह से ही घटनास्थल पर विधायक मुन्नी देवी शाह,प्रमुख यशपाल सिंह नेगी, भाजपा जिला मंत्री दलीपसिंह नेगी,महेश शंकर त्रिकोटी,प्रधान संघ अध्यक्ष मोनू सती,प्रधान संघ जिला उपाध्यक्ष,भूपेन्द्र मेहरा,नंदनसिंह, दर्शन भंडारी,मनोज भंडारी आदि क्षेत्रवासी मौजूद रहे।
सुरेन्द्र धनेत्रा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *