मनरेगा में होने वाले टेंडर प्रक्रिया पर प्रधान संघठनो के पदाधिकारियों ने अधिकारियों से मिलकर अपनी बात रखी

स्थानीय संपादक/ नारायणबगड़,चमोली।
मनरेगा में निर्माण सामाग्रियों के लिए होने वाले टेंडर प्रक्रिया के खिलाफ गुस्साए जिले भर के प्रधान संगठनों के पदाधिकारियों ने सीडीओ और डीडीओ से मुलाकात कर समस्याओं से अवगत कराया व मनरेगा में टेंडर प्रक्रिया को निरस्त करने की मांग की।

प्रधान संघ अध्यक्ष चमोली मोहन सिंह नेगी,नारायणबगड के अध्यक्ष मोनू सती,सुरेन्द्र धनेत्रा, डॉक्टर भूपेन्द्र मेहरा,पृथ्वी सिंह नेगी,सुनील कोठियाल,देवी प्रसाद मैखुरी,गौतम मिंगवाल,दशोली के अध्यक्ष नयन कुंवर,पोखरी के अध्यक्ष दर्शन सिंह नेगी,बिनोद नेगी,पूरन फरस्वाण,पंकज कुमार,मीना देवी व लक्ष्मी प्रसाद आदि पदाधिकारियों ने मुख्य विकास अधिकारी व जिला विकास अधिकारी से मुलाकात कर प्रधानों की इस टेंडर प्रक्रिया से उपजी समस्याओं से अवगत कराते हुए कहा कि निर्माण सामाग्रियों में टेंडर से भारी दिक्कतें खडी हो सकती हैं।

जिनके अंदेशा होने पर ब्लॉक स्तरों पर सभी प्रधान आंदोलनरत हैं। बताते चलें कि सरकार ने मनरेगा में रेता,बजरी,पत्थर, सरिया आदि मैटेरियल के लिए विकास खंड स्तर पर निविदाएं आमंत्रित की हैं जो 26 जून को खोली जानी हैं।इससे भडके प्रधानों ने यहां मुलाकात कर मनरेगा में टेंडर प्रक्रिया को निरस्त करने की बात कही।

मुख्य विकास अधिकारी के इस टेंडर की तकनीकी पक्ष की जानकारी दिए जाने ल अश्वासन के बाद प्रधान संगठनों का चल रहा आंदोलन और 26 जून को प्रत्येक विकास खंड मुख्यालयों की घेराबंदी करने के निर्णय को वापस लेकर फिलहाल आंदोलन को स्थगित कर दिया गया है। मुख्य विकास अधिकारी हंसादत्त पाण्डे ने प्रधान संघ पदाधिकारियों को मनरेगा के कार्यों में मेटेरियल टेंडर पर स्पष्टीकरण देते हुए आश्वस्त किया कि यह निविदाएं मात्र मेटेरियल के दरों को निर्धारण करने के लिए आमंत्रित की गई हैं। प्रधान किसी भी जीएसटी पंजीकृत दुकानदार से निर्माण सामाग्रियों की आपूर्ति कर सकते है।
सुरेन्द्र धनेत्रा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *