मनरेगा कार्यों में सरकार द्वारा निर्माण सामाग्रियों के लिए ठेकदारी प्रथा शुरू,प्रधान संघ ने किया विरोध

स्थानीय संपादक/ नारायणबगड़,चमोली।
मनरेगा के कार्यों में सरकार द्वारा निर्माण सामाग्रियों के लिए ठेकदारी प्रथा शुरू करने का प्रधान संघ नारायणबगड ने भी मुखरता से विरोध कर मंगलवार को विकास भवन पर सांकेतिक धरना दिया।

मनरेगा योजना में सरकार द्वारा ग्राम पंचायतों के विकास कार्यों में प्रयुक्त होने वाले निर्माण सामाग्री की आपूर्ति के लिए टेंडर आमंत्रित किए हैं।जो 26 जून को खोली जानी है।ग्राम प्रधानों का कहना है कि सरकार यदि मनरेगा में सीमेंट,सरिया,ईंट,पत्थरों की आपूर्ति के लिए दुकानदारों को अनुबंधित करती है तो सबसे पहले इसमें अनुबंधित दुकानदार मनमानी करेंगे और साथ ही भ्रष्टाचार के बडे रास्ते भी खुलेंगे।प्रधानगणों का यह भी कहना था कि विषम भोगोलिक परिस्थितियों के अनुरूप यह निर्णय इसलिए भी उचित नहीं है कि सभी गांवो़ तक सडक नहीं जाती है।जिससे दुकानदार सडक तक ही निर्माण सामाग्री ढोयेगा।जहां पर सामाग्रियों का खराब होने और चोरी होने जैसे घटनाओं का अंदेशा भी होगा।

धरना स्थल पर वक्ताओं ने कहा कि एक तरफ सरकार पंचायतों को मजबूत करने की बातें करती है वहीं दूसरी ओर ग्राम पंचायतों के विकास कार्यों में ठेकदारी प्रथाओं को शुरू करने के फरमान जारी कर रही है। जोकि पंचायतों को कमजोर करेगा और भ्रष्टाचार को बढावा मिलेगा। बताते चलें कि इससे पूर्व16 जून को प्रधान संघ ने खंड विकास अधिकारी को मनरेगा म़े टेंडर प्रक्रिया को निरस्त करने का ज्ञापन दिया था।इसी संदर्भ म़े 19 जून को उपजिलाधिकारी थराली के माध्यम से जिलाधिकारी को भी पत्र प्रेषित किया गया था।

जिसका कोई सकारात्मक जबाब नहीं मिला था,22 जून को इसी आसय का पत्र मुख्यमंत्री को भी खंड विकास अधिकारी नारायणबगड के माध्यम से प्रेषित किया गया था और साथ ही मंगलवार से आंदोलन की चेतावनी भी दी गई थी।मंगलवार को धरना देते हुए प्रधानगणों ने निर्णय लिया कि बुधवार से विकास खंड कार्यालय पर तालाबंदी की जायेगी।इसकी खंड विकास अधिकारी के माध्यम से प्रशासन को चेतावनी जारी की गई है।

धरने में प्रधान संगठन के अध्यक्ष मोनू सती,उपाध्यक्ष रीना रावत,रमेश गुसाईं, सुनील कोठियाल,गुड्डी नेगी,रेखा परिहार,तुलसी देवी, हेमादेवी, सरीता देवी,वीरेन्द्र कुमार,बृजमोहन सिंह,लक्ष्मण कुमार आदि उपस्थित रहे।
सुरेन्द्र धनेत्रा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *